ऐसी सोच रखते हो तो निश्चित सफलता मिलेगी ! Best Motivational Story

Lion and Deer - Best Hindi Motivational Story

दोस्तों क्या आप जानते हो की एक हिरण की रफ्तार Approx 90 किमी प्रति घंटा की होती है अर्थात एक घंटा में 90 Km दौड़ सकता है जबकि वही एक शेर की रफ्तार 80 किमी प्रति घंटा की होती है ।

इसका मतलब है कि हिरण शेर की अपेक्षा अधिक तेजी से दौड़ सकता है। लेकिन ऐसा क्यों होता है की शेर हिरण का शिकार करने में सफल हो जाता है। आखिर क्या कारण है कि अधिक रफ्तार रखने वाला हिरण शेर का शिकार हो जाता है और कम रफ्तार रखने वाला शेर अपने शिकार करने में सफल हो जाता है ।

दोस्तों अगर हम इसे समझ लेते है यकीन मानिए आप अपनी असफल होने के कारणों को समझ जायेंगे और भविष्य में शेर की तरह आप भी जल्दी ही सफलता हासिल कर लेंगे। तो फिर चलिए समझने की कोशिश करते है की शेर की सफलता का क्या राज है और हिरण के असफलता का क्या कारण है ।

पहले बात करते है हिरण की। हिरण की रफ्तार भले ही तेज हो लेकिन उसे भय बना रहता है कि कही शेर मुझे पकड़ कर मार न दे । हिरण के अंदर हमेशा शेर की बहादुरी का डर बना रहता है, की क्या मैं उसकी दौड़ और बहादुरी के सामने जीत पाऊंगा। इसी डर के कारण जब हिरण दौड़ लगाता है तो वह बार बार पीछे मुड़कर देखता रहता है कि मैं शेर से बच पाऊंगा कि नही।

और हिरण के इसी डर के कारण उसका मनोबल कम होता जाता है और धीरे धीरे वह अपनी क्षमता के अनुसार दौड़ने में भी फेल हो जाता है।

क्योंकि भले ही आपके अंदर बहुत क्षमता भले ही हो लेकिन अगर आत्मविश्वास की कमी और मन में डर है तो फिर आपका सफल हो पाना बहुत मुश्किल होगा। डर और आत्मविश्वास की कमी के कारण आप अपनी पूरी कार्य क्षमता के अनुरूप कार्य कर ही नहीं पाएंगे। जिसके कारण बहुत कार्यक्षमता के रहते हुए भी ऐसे लोग अपने जीवन में असफल हो जाते है।

याद रखिए- “हारता वह है जो हिम्मत गँवा बैंठता है…”

ठीक ऐसा ही होता हिरण के साथ। जो शेर से ज्यादा रफ्तार रखने वाला भी शेर के सामने हार जाता है ।

अब दूसरी तरफ अगर शेर की बात करें जिसकी रफ्तार हिरण से कम होने के वाबजूद भी वह जीत जाता है। जिसका कारण है कि शेर को पता है कि अगर वह शिकार में असफल होता है तो फिर वह खाए बिना मर जायेगा। उसके अंदर डर नहीं होता है बल्कि ये मन में होता है कि कुछ भी हो जाए मुझे हिरण का शिकार करना ही है। उसके दिमाग में ये नही होता है हिरण की रफ्तार तेज है या कम है। बस शेर का लक्ष्य होता है उसका शिकार करना ।

शेर अपने शिकार को पकड़ने में अपनी पूरी ताकत लगा देता है। वह अपने शिकार पर पूरा ध्यान केंद्रित करता है। अपने लक्ष्य को पूरे ध्यान से जांचता और परखता है। फिर पूरी पावर के साथ उसके ऊपर तेजी से अटैक करता है। जिसका नतीजा होता है अपने शिकार पर विजय ।

दोस्तों यही कारण है कि बिना डर के, पूरा ध्यान केंद्रित करते हुए, पूरी पावर के साथ शेर कार्य करता है जिससे वह हिरण के ऊपर विजय पा लेता है ।
जबकि शेर की रफ़्तार हिरण से कम होती है फिर भी विजय है ना कमाल की बात…

एक बात अपने जीवन में हमेशा याद रखिएगा कि जो व्यक्ति बिना डर के, अपने Goal पर पूरा ध्यान केंद्रित करते हुए , अपनी पूरी ताकत के साथ आगे बढ़ता है उसे सफल होने से कोई रोक नहीं सकता है । आपका आत्मविश्वास , आपका जोश, आपका Focus, आपका जुनून ही आपको जीवन में Success दिलाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to Top