एक और कोशिश – MOTIVATIONAL STORY

एक कोशिश और कर, बैठ ना तू हार कर(Do one more try, don’t you sit and lose)

brother & sister motivational

(motivationalmitra) यह कहानी दो भाई – बहन की है जो लड़का था वह बहुत ही आलसी था उसके आलस्य की बजह वह कोई काम ठीक तरीके से नहीं करता था, वह स्कूल भी देर से जाता फिर उसे टीचर्स से बहुत डाट पड़ती थी स्कूल की पढ़ाई में भी उसका कोई खास मन नही लगता था

वह सुबह जल्दी नहीं उठना था बहुत देर से उठता था जब उसकी बहन उसे जगाने की कोशिश करती तो वह अनसुनी करके फिर से शो जाता था ,फिर लडका भी कुछ दिनों बाद अपनी इन्ही आदतों की बजह से वह लड़का बहुत ज्यादा उदाश रहने लगा उसे लगने लगा था की वह अपने जीवन में कुछ नहीं कर सकता है

एक दिन उसकी बहन ने उसकी आदतों को सुधारने के लिए एक तरीका सोचा, चलो देखते हे क्या तरीका है ?
अगली सुबह जब लड़का अपनी बहन को देखता है तो उसकी बहन बहुत खुश दिखती है लडका अपनी बहन से पूछता है कि दीदी-दीदी आज आप इतनी खुश दिख रहे हो आखिर क्या बात है

obstinacy

उसकी बहन उसे बताती है कि आज सुबह जब मेने उगते सूर्य को और उससे निकलने वाले पीले रंग की किरण को देखकर जो पंछी चहचहां रहे थे और पेड़ो के पत्तो से टकराकर जो प्रकाश का प्रकीर्णन हो रहा था

यह देखकर तो मेरा मन खुश हो गया मेरा पूरा दिन आनंद से भर गया लगता हे जैसे सूर्य भगवान ने स्वंम जमीन पर आकर दर्शन दे रहे हो और कह रहे हो कि जीवन में खुश रहना है तो सुबह की मेरी पहली किरण को देख कर अपना जीवन आनंद से जियो

अपनी बहन की यह बात सुनकर उस लडके के मन में भी एक जिज्ञासा(Curiosity) जाग उठती है और वह लड़का सोचता हे, में भी बहुत उदाश रहता हूँ क्यों ना में भी सुबह जल्दी उठने का प्रयास करके देखू कि सुबह की वो पहली किरण कैसी दिखती है , फिर वह लडका उठा तो उसने देखा कि वह सूर्य निकलने के बाद उठ पाया है

फिर अगले दिन से वह जल्दी उठने की कोशिश करने लगा लेकिन अपनी देर से जागने की आदत की वजय से वह उठने में थोड़ा लेट हो जाता देर से जागने वजह से लड़का फिर उदाश हो गया लेकिन लड़के ने हार नहीं मानी लड़के ने अपने आप से कहा एक कोशिश और, अवकी बार लड़के ने ठान ली थी की कल सुबह उसे सूर्य के निकलने से पहले उठना है

और अगली सुबह वह लड़का सूर्य के निकलने से पहले ही जाग गया था, फिर लड़के ने जो देखा तो लड़का आशचर्य चकित हो गया और उसने सूर्य से आने वाली की पहली और सबककुछ देखा जैसा उसकी दीदी ने उसे बताया था , तव से वह लड़का रोज सुबह सूर्य के निकलने से पहले उठ जाता। Read Top Motivational Story Sabse Bara Rog Kya Kahenge Log

फिर उसे लगने लगा की सुबह जल्दी जाग कर वह पढ़ सकता है ,अब उसका पढ़ाई में भी मन लगने लगा था और फिर वह अपने बहन के साथ घर के कुछ कामो में हाथ बटाता था इसी तरह से उसका जीवन शवर रहा था और सुबह जल्दी जागने की वजह से वह लड़का पूरे दिन ऊर्जाबान रहता था /

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to Top