knowledge of culture and thought story in hindi – संस्कार और विचार का ज्ञान

culture and thought Moral Story in Hindi

Don’t give your kids only the knowledge of books.(अपने बच्चो को सिर्फ किताबो का ज्ञान न दे ) –

: दोस्तों आज हमने संस्कार और विचार का ज्ञान पर विद्यार्थियों और अभिभावकों के लिए एक अच्छी और शिक्षाप्रद कहानी लिखी है। इस कहानी से विद्यार्थियों को तो सीख मिलेगी ही साथ में अभिभावकों को भी अपनी गलती का एहसास होगा जो केवल किताबी ज्ञान पर ही जोर देते है और अच्छे विचार और संस्कार culture and thought नहीं दे पाते |

culture and thought
aaj ka vichar

Don’t be proud of just schooling ( सिर्फ स्कूली पढ़ाई पर घमंड न करे)-

एक गांव की चार महिलाएं कुएं पर पानी भरने गई, पानी भरते समय चारों महिलाएं इधर उधर की बातें कर रही थी। कुछ समय बात करने के बाद वह अपने बेटों की तारीफ करने लगी।

पहली महिला बोली मेरा बेटा काशी से पढ़ कर आया है वह संस्कृत विषय का विद्वान हो गया है बड़े से बड़ा ग्रंथ उसे मुंह जुबानी याद है और वह बड़े विश्वविद्यालय में नौकरी भी करने लगा है।

दूसरी महिला बोली मेरे बेटे ने विज्ञान की पढ़ाई की है वह वैज्ञानिक बन गया है और एक दिन सबसे बड़ा वैज्ञानिक बन जाएगा। तीसरी महिला की बोली मेरे बेटे ने अच्छी शिक्षा ली है वह शिक्षक बन गया है और दूसरे गांव की विद्यालय में पढ़ाने के लिए जाता है।

चौथी महिला यह सब कुछ चुपचाप सुन रही थी लेकिन उसने कुछ नहीं बोला….. बाकी महिलाओं से रहा नहीं गया और उन्होंने उस महिला से पूछा बहन तुम भी बताओ तुम्हारा बेटा आजकल क्या कर रहा है।इस पर चौथी महिला ने थोड़ा संकोच करते हुए धीमी आवाज में कहा मेरा बेटा पढ़ा लिखा नहीं है वह खेतों में काम करता है।

never judge only culture and thought (संस्कृति और सोच को कभी मत आंकना)-

culture and thought
culture and thought

when start mothers day

यह सब बातचीत होने के बाद चारों महिलाएं पानी का घड़ा लेकर अपने घरों की ओर चलने लगी तभी पहली महिला का बेटा आता दिखाई दिया उसने अपनी मां के साथ अन्य महिलाओं को नमस्कार किया और आगे चला गया।

इसी तरह दूसरी और तीसरी महिला के बेटे भी रास्ते में मिले और सभी को नमस्कार करते हुए आगे बढ़ गए.. थोड़ी देर बाद चोथी महिला के बेटे ने जब रास्ते में अपनी मां को सिर पर पानी का घड़ा लेकर आते देखा तो दौड़कर आया और उसी से घड़ा उतार लिया…

और बोला तुम क्यों चली आई?

मुझे कह दिया होता यह है कि वह खड़ा अपने सिर पर रख कर घर की ओर चल दिया, तीनों महिलाएं देखती रह गई।

read more story-motivationalmitra.com

Moral of This Story Hindi-

इस कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती है –

  • इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि जिंदगी में केवल किताबी ज्ञान ही काफी नहीं होता है बच्चों में व्यवहारिक ज्ञान का होना भी आवश्यक होता है
  • हमें यह सीखना होगा कि किताबी ज्ञान केवल ज्ञान बढ़ाने के लिए होता है उस ज्ञान का उपयोग हमें इस दुनिया में ही करना है तो हमें इस दुनिया के तौर तरीके, संस्कार और विचार culture and thought सीखने होंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to Top