How to break the chains of mentality ?मानसिकता की जंजीरो को कैसे तोड़े

best change maindset

why elephant not break iron chains ?लोहे की जंजीर

why not break a chains-

एक आदमी कहीं से गुजर रहा था, तभी उसने सड़क के किनारे बंधे हाथियों को देखा, और अचानक रुक गया | उसने देखा कि हाथियों के अगले पैर में एक रस्सी बंधी हुई है, उसे इस बात का बड़ा अचरज हुआ की हाथी जैसे विशालकाय जीव लोहे की जंजीरों (chains) की जगह बस एक छोटी सी रस्सी !!! ये स्पष्ठ था |

कि हाथी जब चाहते तब अपने बंधन तोड़ कर कहीं भी जा सकते थे, पर किसी वजह से वो ऐसा नहीं कर रहे थे |

how to break chains
elephant believe think

उसने पास खड़े महावत से पूछा कि भला ये हाथी किस प्रकार इतनी शांति से खड़े हैं और भागने का प्रयास नही कर रहे हैं ?

तब महावत ने कहा, ” इन हाथियों को छोटे पर से ही इन रस्सियों से बाँधा जाता है | उस समय इनके पास इतनी शक्ति नहीं होती की इस बंधन को तोड़ सकें |

बार-बार प्रयास करने पर भी रस्सी ना तोड़ पाने के कारण उन्हें धीरे-धीरे यकीन होता जाता है, कि वो इन रस्सियों को नहीं तोड़ सकते | और बड़े होने पर भी उनका ये यकीन बना रहता है, इसलिए वो कभी इसे तोड़ने का प्रयास ही नहीं करते |

किसी कहा है कि ?
सो दिन भेड़ -बकरियों का जीने से अच्छा है !!
एक दिन शेर का जिया जाये !!!!

best motivational quotes

self-made mental chains अपनी ही बनायीं हुई मानसिक जंजीर-

आदमी आश्चर्य में पड़ गया कि ये ताकतवर जानवर सिर्फ इसलिए अपना बंधन नहीं तोड़ सकते क्योंकि वो इस बात में यकीन करते हैं | कि उन्होंने इस रस्सी को बचपन में तोड़ नहीं पाया तो अभी भी नहीं तोड़ पाएंगे |

इन हाथियों की तरह ही हममें से कितने लोग सिर्फ पहले मिली असफलता के कारण ये मान बैठते हैं कि अब हमसे ये काम हो ही नहीं सकता और अपनी ही बनायीं हुई मानसिक जंजीरों में जकड़े-जकड़े पूरा जीवन गुजार देते हैं.

यह भी पढ़े:- हादसे में खो दिया था एक हाथ,(फिर लड़ी जिंदगी की जंग)

moral of the story-

याद रखिये असफलता जीवन का एक हिस्सा है ,और निरंतर प्रयास करने से ही सफलता मिलती है. यदि आप भी ऐसे किसी बंधन में बंधे हैं जो आपको अपने सपने सच करने से रोक रहा है तो उसे तोड़ डालिए….. आप हाथी नहीं इंसान हैं|

इस दुनिया में गुलाम बनोगे तो कुत्ता समझकर लात मारेगी !
हालातो को अपना गुलाम बनाओगे तो शेर समझकर सलाम मारेगी ये दुनिया !!!

motivational quotes !!

One thought on “How to break the chains of mentality ?मानसिकता की जंजीरो को कैसे तोड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to Top