what is the secrets of happiness in life ? ख़ुशियों का रहस्य

key of happiness and success

why the success need for happiness & secrets of happiness

how can we be happy ? and what is secrets of happiness (हम कैसे खुश रह सकते है ?)

एक बार एक क्लास में एक प्रोफेसर अपने छात्रों को पढ़ा रहे थे की उनमे से एक छात्र ने अपने प्रोफेसर से सवाल किया – “जीवन में ख़ुशी का राज क्या ? या फिर हम कैसे खुश रह सकते है (secrets of happiness) ?”

secrets of happiness
key of happiness and success
create happiness thinking

इस पर प्रोफेसर ने कहा-“ठीक है लेकिन मै उससे पहले आपको कुछ दिखाता हूँ।” फिर प्रोफेसर ने एक कांच का जार लिया उसे अपने टेबल पर रख दिया और उसने प्लास्टिक की छोटी छोटी बॉल को डालने लगे। जब जार पूरा बाल से भर गया तो प्रोफेसर ने छात्रों से पूछा -“बताइये की जार भर गया या अभी खाली है।” तो छात्रों ने जवाब दिया – ” जार भर गया है। “

why then the professor smiles ? (फिर प्रोफेसर क्यों मुस्कुराते हैं ?)

फ़िर प्रोफेसर मुस्कुराये और उन्होंने जार में छोटे – छोटे कंकर भरने शुरु किये. धीरे – धीरे जार को हिलाया तो काफ़ी सारे कंकर खाली बची जगह में समा गये

फ़िर से प्रोफेसर ने पूछा , क्या अब जार भर गया या नहीं?

सभी एक बार फ़िर तेज स्वर में कहाँ – जी हाँ

अब प्रोफेसर ने एक रेत की थैली उठाई और धीरे धीरे उस जार में रेत डालना शुरु कर दिया , जहाँ जहाँ जगह बची थी वहां रेत समा गई.

अब छात्र अपनी नादानी पर हँसे …

फ़िर प्रोफेसर ने छात्रों से पूछा , अब आप सबका क्या कहना है? अब तो यह जार पूरी तरह भर गया या नहीं?
सभी ने एक स्वर में जोर से कहा -अब तो यह पूरी तरह से भर गई है ..

secrets of happiness
cute happy img

प्रोफेसर ने मेज के नीचे से पानी की बोतल निकाली और उस जार में पानी डालना शुरू कर दिया. पानी भी रेत के बीच में स्थित थोडी सी जगह में सोख लिया गया.
प्रोफेसर मुस्कुराये और उन्होंने वहां बैठे छात्रों को इन सबका का मतलब समझाना शुरु किया।

जरूर पढ़े – ” चींटी से मुलाकात ” sort story in hindi

इस काँच के जार को आप सभी अपना जीवन (life) समझो ….

उस जार में पड़ी प्लास्टिक की सभी गेंदें आपकी जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा यानि की आपका परिवार (family), बच्चे, दोस्त, स्वास्थ्य और शौक हैं।

छोटे कंकर का मतलब ये आपकी नौकरी, बड़ा मकान, बड़ी गाड़ी बड़ा टीवी, AC आदि हैं। और उस रेत का मतलब है आपकी लाइफ की छोटी–छोटी बेकार बातें जैसे की लालच, जलन, मनमुटाव, झगडे़ आदि है।

The first jar of life was filled with sand (जीवन रूपी जार में सबसे पहले रेत भरी होती)

अब अगर आपने, अपने इस जीवन रूपी जार में सबसे पहले रेत भरी होती तो प्लास्टिक की गेंदों और कंकरों के लिये तो थोड़ी सी जगह भी नहीं बचती। और अगर सबसे पहले कंकर भर दिये होते तो आप इसमें गेंदें नहीं भर पाते लेकिन हाँ रेत जरूर आ सकती थी।
ठीक यही बात आपके जीवन पर भी लागू होती है …

moral of the story

  • अगर आप सभी अपनी लाइफ में दुसरो से जलते रहेंगे या छोटी–छोटी बातों के पीछे झगड़ते रहोगे तो आप ना ही खुश (happy) रह सकते है और ना ही संतुष्ट (satisfy) |
  • मन से सुखी रहने के लिये जरूरी है की आप अपने दोस्तों और परिवार वालो के साथ समय बिताए और वह करें जिसे करने पर आपको ख़ुशी मिलती है। प्लास्टिक की गेंदों की फ़िक्र सबसे पहले कीजिये क्योंकि आपकी लाइफ के लिए वही सबसे ज्यादा जरुरी है… बाकी सब तो रेत है।
  • खुशी मंजिल नहीं मंजिल तक पहुंचने का रास्ता है , इसी लिए जर्नी में जो ख़ुशी के पल मिलते हे उन्हें छोड़ो मत |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to Top